Monday, December 5, 2022
Google search engine
HomeUncategorizedKedarnath Temple: स्वर्णमंडित हुआ केदारनाथ मंदिर का गर्भगृह, 550 सोने की परतों से सजा...

Kedarnath Temple: स्वर्णमंडित हुआ केदारनाथ मंदिर का गर्भगृह, 550 सोने की परतों से सजा धाम

kedarnath ( uttarakhand ) केदारनाथ धाम का गर्भगृह स्वर्णमंडित हो गया है। 550 सोने की परतों से गर्भगृह की दीवारों और छत नए स्‍वरूप में दिख रही हैं। दरअसल, मुंबई के एक कारोबारी ने बाबा केदार के धाम को स्वर्ण प्लेट से सजाने का अनुरोध किया था। इसके लिए व्यवसायी की ओर से 230 किलोग्राम सोने का दान किया गया। इस सोने से 550 गोल्ड प्लेट का निर्माण कराया गया। दिवाली के दिन बाबा केदार के धाम में गोल्ड प्लेट को पहुंचाने का कार्य शुरू किया गया था। इसके बाद 19 कलाकारों ने तीन दिनों की मेहनत के बाद मंदिर के भीतरी परिसर को सोने से बदलने में कामयाबी हासिल की। बता दें कि महाराष्ट्र के एक दानी के सहयोग से बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने यह कार्य किया है। एएसआई के अधिकारियों की देखरेख में यह कार्य किया गया और बुधवार को कार्य पूरा हो गया। केदारनाथ मंदिर के गर्भगृह को स्वर्णमंडितकरने के लिए पहले चांदी हटाई गई। मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में चांदी को हटाने के बाद मंदिर के भंडार गृह में सुरक्षित रख दिया गया।

उसके बाद चांदी के स्थान पर तांबा लगाया गया। गर्भगृह की दीवारों पर तांबा चढ़ाने के बाद नाप लिया गया और फिर से इस तांबे को निकालकर वापस महाराष्ट्र ले जाया गया, जहां तांबे की परत की नाप पर सोने की परत तैयार की गई। सोने की ये परतें मंदिर के गर्भगृह, चारों खंभों व स्वयंभू शिवलिंग के आसपास की जलहरी में भी लगाई गई है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान व केंद्रीय भवन अनुसंधान रुड़की और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में बीकेटीसी ने गर्भगृह, जलेरी व छत पर सोने की परतें लगाने का कार्य किया। इस कार्य में 19 मजदूर लगे हुए थे। गौरीकुंड से घोड़ा-खच्चरों से सोने की इन 550 परतें केदारनाथ पहुंचाई गईं थीं। इन परतों को नई दिल्ली से पुलिस की कड़ी सुरक्षा में गौरीकुंड पहुंचाया गया था। इससे पहले मंदिर के गर्भगृह, जलेरी व छत चांदी की परतें लगीं थीं। बीकेटीसी के अध्यक्ष अजेंद्र अजय का कहना है कि गर्भगृह को स्वर्णमंडित करने का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। बीते तीन दिनों से यह कार्य किया जा रहा है। बता दें कि सोने की परत लगाने से पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान व केंद्रीय भवन अनुसंधान रुड़की और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के दल ने धाम पहुंचकर मंदिर के गर्भगृह का निरीक्षण किया था। उनकी रिपोर्ट के बाद गर्भगृह में सोने की परत लगाने का काम शुरू किया गया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments